punjabi shadi ki rasme

क्या होती है Punjabi Shadi Ki Rasme?

क्या आप भी Punjabi Shadi का लुफ्त उठाने वाले है। भारत में हर जाती के लोग रहते है उनमे से पंजाबी भी एक है। Punjabi Shadi अक्सर बहुत ही बढ़िया होती है क्योकि पंजाबी लोग ही बड़े दिल के होते है। अगर आपका भी विवाह पंजाबी खानदान में हो रहा है तो आपको उनके रीती रिवाज का पता होने चाहिए। और अगर आपको Punjabi shadi ki Rasme के बारे में कुछ नहीं पता है तो घभराइये मत। क्योकि अब आपको आपके सारे सवालों का जवाब मिलने वाला है। यहां आप जानेगे की Punjabi Shadi Ki Rasme और रिवाज होते हैं। चलिए शुरू करते हैं : –

  1. रोका(Roka): – हर पंजाबी शादी की शुरुआत रोके के साथ होती है। जिसमें शादी पक्की होने के बाद दुल्हन के घर वाले दूल्हे के स्थान पर जाकर दूल्हे को उपहार देते हैं जिसे शगुन कहा जाता है।  इस रसम में दुल्हन नहीं होती। रोका का मतलब दो परिवारों के साथ जोड़ने का होता है जिसकी शुरुआत एक पूजा से होती है जिसको अरदास कहते हैं। roka in punjabi shadi
  2. मंगनी/सगाई(Mangni/Sagai): – इस रसम का मतलब २ लोगों का आपस में जोड़ना है। यह रसम एक बहुत बड़ी और महत्वपूर्ण Punjabi shadi ki rasme के रूप में मानी जाती है। इस रसम में लड़का और लड़की आपस में एक दूसरे को अंगूठी पहनाते हैं और अधिकारिक रूप से एक दूसरे के होते है। mangni punjabi shadi ki rasme in hindi
  3. चुन्नी चढाई(Chunni): – दूल्हे के परिवार में दुल्हन को आधिकारिक बनाने के लिए यह रसम मनाई जाती है। इस रसम में औरतो का समूह दुल्हन के घर उपहार, कपड़े, फल और चुन्नी लेकर आते है। चुन्नी को दुल्हन के चेहरे तक चढ़ाया जाता है जिसे चुन्नी चढ़ाना कहते है। दुल्हन को दूल्हे की माँ कंगन आदि आभूषण देती है जिसे शगुन कहते है। chunni chadai in punjabi wedding
  4. संगीत(Sangeet): – यह एक तरह की पार्टी होती है जो दुल्हन के परिवार द्वारा दी जाती है। जिसमें कुछ औरते दुल्हन के साथ बैठती है और डांस करते हैं। इसमें दूल्हे और उसके घर वालो को भी बुलाया जाता है। यह एक तरह से दोनों परिवारों के मिलने का समय होता है जिसमे सब साथ में हसी मजाक करते है।
  5. हल्दी रसम(Haldi Rasam): – Punjabi shadi ki rasme में हल्दी रसम 5 दिन पहले की जाती है। लेकिन कई लोग समय की कमी की वजह से ३ दिन में ही इस रसम को मना लेते है। सिर्फ पंजाबी में ही नहीं बल्कि हर शादी में हल्दी रसम होती है क्योकि हल्दी को हर शुभ काम से पहले इस्तेमाल किया जाता है।
  6. दूल्हे का सेहरा: – शादी के दिन दूल्हे को सेहरा उसकी बहन बंदती है जिसे पूजा में पंडित आशीर्वाद देते है। dulhe ka sehra
  7. घोड़ी चढ़ना: – घोड़ी पर चढ़ना भी पंजाबी शादी की एक रसम है क्योकि इसमें दूल्हा अपने नए जीवन की शुरुवात करता है। इसमें दूल्हे की बहन घोड़ी को चने की दाल और घुड़ खिलाती है।
  8. मिलनी: – जब बारात दुल्हन के स्थान पर पहुँचती है तो दोनों परिवार आपस में एक दूसरे के गले लगते है जिसे मिलनी कहते है। इसमें दोनों परिवार एक दूसरे को उपहार देते है और माला पहनाते है।  अगर आप अपनी पंजाबी शादी को और यादगार बनाना चाहते है तो हमारे wedding planner in Delhi को बुक कर सकते है। milni

Leave a Comment